हम आपको बता दे कि मोदी सरकार एक ऐसी योजना पर काम कर रही है

 हम जिससे कि सरकारी खजाने पर सब्सिडी का बोझ कम होगा

 इसके साथ साथ कृषि में रसायनों का इस्तेमाल भी कम होगा।

पीएम प्रणाम योजना के तहत सरकार रासायनिक खाद का विकल्प बनाने पर काम करेगी

 इस योजना का उद्देश्य केंद्र पर उर्वरक सब्सिडी के बढ़ते बोझ को कम करना है

और फसलों पर रासायनिक उर्वरकों के उपयोग को कम करना है

 उर्वरक मंत्रालय के मुताबिक चालू वित्त वर्ष में रासायनिक उर्वरकों पर सब्सिडी का आंकड़ा 2.25 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच जाएगा

 जो पिछले वित्त वर्ष की तुलना में 39 फीसदी अधिक होगा

2021-22 में सरकार को रासायनिक खाद पर सब्सिडी के तौर पर 1.62 लाख करोड़ रुपये खर्च करने पड़े

राजकोष पर इस बोझ से बचने के लिए पीएम प्रणाम योजना लाई जा रही है.