गन्ने में टॉप बोरर और पोका बोइंग रोग को करे सिर्फ 1 दिन में ख़तम देखे ये जानकारी

पोका बोइंग ने टॉप बोरर के साथ गन्ने की खेती में भी कदम रखा है। गन्ने की फसल में टॉप बोरर रोग काफी बढ़ गया है तो अब पोका बोइंग ने भी हमला करना शुरू कर दिया है। गन्ने की फसल में टॉप बोरर रोग काफी बढ़ गया है तो अब पोका बोइंग ने भी अपने पैर फैला दिए हैं। पोका बोइंग का कारण उच्च तापमान और आर्द्रता है। अधिक तापमान के कारण गन्ने की पत्तियां भी सूख रही हैं। ऐसे में किसानों की परेशानी बढ़ गई है. बिना उपचार के बीजों का प्रयोग इस रोग का मुख्य कारण है। शामली जिले में केवल Co-0238 प्रजाति का ही गन्ना अधिक है। ऐसे में इस किस्म में यह रोग अधिक फैलता है.

शामली जिले में गन्ने का क्षेत्रफल 80 हजार हेक्टेयर से अधिक है। पिछले माह गन्ने की फसल में टॉप बोरर यानी एगोला भेदक कीट पाया गया था। तेजी से फैलने वाले इस कीट को रोकने के लिए किसान उपाय कर ही रहे थे कि अब पोका बोइंग रोग भी आ गया है.

पोका बोइंग एक कवकीय कवक रोग है। इसमें पत्तियों पर लाल व पीले धब्बे बन जाते हैं। पत्तियाँ सिकुड़ने लगती हैं। समय पर उपचार न करने पर पत्तियाँ सूखकर गिर जाती हैं। गन्ने के आकार पर भी असर पड़ता है और गन्ना काला पड़ जाता है। एपेक्स बोरर रोग में कीट पत्ती के आवरण में पाया जाता है। यह गले तक फैल जाता है और

गन्ने के दानों की आंखों को नुकसान पहुंचाता है।

कुल मिलाकर गन्ने का उत्पादन, गुणवत्ता प्रभावित हो रही है और छिलाई कम हो रही है। कृषि विज्ञान केंद्र शामली के वैज्ञानिक डॉ. विकास मलिक ने बताया कि पोका बोइंग अधिक नमी और तापमान के कारण उगता है।

पोका बोइंग रोग को कैसे रोकें

इसकी रोकथाम के लिए बुआई के समय बीज एवं मिट्टी का उपचार करना चाहिए। हालाँकि, अब जब बीमारी शुरू हो गई है, तो एक किलोग्राम ट्राइकोडर्मा पाउडर को 25 किलोग्राम गाय के गोबर में मिलाकर प्रति एकड़ डालना चाहिए। आप कार्बनडाज़िम, मैंकोज़ेब और कॉपर ऑक्सीक्लोराइड में से किसी एक दवा का भी उपयोग कर सकते हैं।

गन्ने में टॉप बोरर और पोका बोइंग
गन्ने में टॉप बोरर और पोका बोइंग

बीज कैसे साफ करें

कृषि वैज्ञानिक डॉ. विकास मलिक ने बताया कि प्रति लीटर पानी में दस ग्राम ट्राइकोडर्मा मिलाकर घोल बनाएं। इस घोल में गन्ने के टुकड़ों यानी बीजों को करीब आधे घंटे तक डुबोकर रखें और फिर बुआई करें.

गन्ने को टॉप बोरर रोग से कैसे बचाएं?

कृषि वैज्ञानिक के मुताबिक फसल में प्रोफेनोफॉस और साइपरमेथ्रिन का प्रयोग करें. इस कीट को परजीवी ट्राइकोग्रामा जैपोनिकम द्वारा भी मारा जा सकता है।

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है