गन्ने की मोटाई और लंबाई कैसे बढ़ाएं?

गन्ने की मोटाई और लंबाई कैसे बढ़ाएं? :- गन्ने की खेती करने वाले किसान इसकी मोटाई और लंबाई बढ़ाने के लिए कई तरह की खाद और उर्वरकों का इस्तेमाल करते हैं। कई बार खाद और खाद की सही जानकारी न होने के कारण किसानों को उचित लाभ नहीं मिल पाता है। अगर आप गन्ने की खेती कर रहे हैं और गन्ने की मोटाई और लंबाई बढ़ाना चाहते हैं तो इस वीडियो को ध्यान से देखें। अगर आपको इस वीडियो में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो हमारे इस पोस्ट को लाइक करें। इससे जुड़े अपने सवाल हमसे कमेंट के जरिए पूछें। कृषि से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए देहात से जुड़े रहें।

गुणवत्ता वाले बीजों का चयन

बुआई से पूर्व अच्छी गुणवत्ता वाले बीजों का चयन कर लेना चाहिए। अच्छी गुणवत्ता वाले बीज अच्छी गुणवत्ता वाले स्वच्छ और स्वस्थ बीज होते हैं। अच्छे बीज से फसल की मात्रा बढ़ती है और फसल गुणवत्ता की दृष्टि से भी अच्छी होती है। अच्छे बीजों को पानी में डाल दें तो वे पानी में बैठ जाते हैं। पानी पर तैरने वाले बीज खोखले और क्षतिग्रस्त होते हैं।

मिट्टी की तैयारी

रोपण से पहले मिट्टी को अच्छी तरह से तैयार कर लें। मिट्टी में उचित जल निकासी और कार्बनिक पदार्थ की मात्रा सुनिश्चित करें. पोषक तत्वों की कमी का पता लगाने के लिए मिट्टी का परीक्षण कराएं और उसके अनुसार मिट्टी में संशोधन करें।

रोपण तकनीक

गन्ने के डंठल या सेट को सही गहराई और दूरी पर लगाएं। आमतौर पर, डंठल लगभग 2-3 इंच गहरे और 12-18 इंच अलग लगाए जाते हैं। आप जिस विशिष्ट किस्म की खेती कर रहे हैं, उसके लिए अनुशंसित रोपण तकनीक का पालन करें।

सिंचाई

गन्ने के पौधों को पर्याप्त पानी दें। गन्ने को नियमित रूप से पानी देने की आवश्यकता होती है, खासकर बढ़ते मौसम के दौरान। सुनिश्चित करें कि मिट्टी लगातार नम है लेकिन जल भराव नहीं है। ड्रिप इरिगेशन या फरो इरिगेशन जैसी विधियों का उपयोग करके फसल की सिंचाई करें।

 गन्ने की मोटाई और लंबाई कैसे बढ़ाएं?
गन्ने की मोटाई और लंबाई कैसे बढ़ाएं?

उर्वरीकरण

मिट्टी परीक्षण के परिणामों और गन्ने की पोषक तत्वों की आवश्यकताओं के आधार पर उर्वरकों का प्रयोग करें। प्रारंभिक विकास चरणों के दौरान उच्च नाइट्रोजन सामग्री वाले संतुलित उर्वरक का उपयोग करें। बाद में, जड़ और डंठल के विकास को बढ़ावा देने के लिए फॉस्फोरस और पोटेशियम युक्त उर्वरक का प्रयोग करें।

खरपतवार नियंत्रण

शाकनाशी का छिड़काव करने से पहले खेत में नमी का होना बहुत जरूरी है। एक हेक्टेयर भूमि में छिड़काव के लिए 800 लीटर पानी का प्रयोग करना चाहिए। यदि खरीफ मौसम में लगातार वर्षा हो रही हो तो रोपा धान में 20-30 किग्रा की दर से दवा का छिड़काव करें। इसे बालू में मिला देना चाहिए।

रोग और कीट प्रबंधन

रोग या कीट के संक्रमण के किसी भी लक्षण के लिए नियमित रूप से अपनी फसल की निगरानी करें। कीटों और बीमारियों को नियंत्रित करने के लिए उपयुक्त उपाय करें, जैसे कि उपयुक्त कीटनाशक या कवकनाशी का प्रयोग। रासायनिक उपयोग को कम करने के लिए एकीकृत कीट प्रबंधन प्रथाओं का पालन करें।

फसल पोषण

बढ़ते मौसम के दौरान आवश्यकतानुसार अतिरिक्त पोषक तत्वों का प्रयोग करें। गन्ने की वृद्धि और विकास के लिए सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ पर्णीय छिड़काव फायदेमंद हो सकता है। विशिष्ट अनुशंसाओं के लिए स्थानीय कृषि विशेषज्ञों से परामर्श करें।

छंटाई और छंटाई

किसी भी मृत या रोगग्रस्त पत्तियों या डंठल को हटाने के लिए समय पर छंटाई करें। पौधों के बीच इष्टतम दूरी सुनिश्चित करने के लिए अतिरिक्त टहनियों को हटाकर भी पतला किया जा सकता है।

सही समय पर कटाई

गन्ने की फसल की कटाई सही परिपक्वता अवस्था में करें। आमतौर पर, गन्ने की कटाई तब की जाती है जब उसमें चीनी की मात्रा अधिकतम हो जाती है। कटाई में देरी करने से चीनी की मात्रा और गुणवत्ता में कमी आ सकती है।

1 thought on “गन्ने की मोटाई और लंबाई कैसे बढ़ाएं?”

Comments are closed.

close

Copy करने से बचे DMCA आ सकता है